हमें पता है की मूल्य और आय अनुपात, या PE अनुपात, क्या है और यह कैसे प्राप्त होता है (PE अनुपात को बेहतर समझने के लिए कृपया पढ़ें मूल्य (Price) का आय (Earning) से अनुपात (पीई – PE Ratio) क्या है?“)

तो, अब समय है PE अनुपात की व्याख्या करने का!

नियम १: तुलना

याद रखने की सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि PE अनुपात की अकेले, अलग आधार पर कोई उपयोगिता नहीं है । इसके दो मतलब हैं:

- यह हमेशा दो कंपनियों, क्षेत्रों, देशों आदि की तुलना के लिए प्रयोग किया जाना चाहिए।
-
यह मूल्यांकन और विश्लेषण के अन्य उपकरणों के साथ प्रयोग किया जाना चाहिए।

नियम : संतरों की तुलना संतरों के साथ करें

जब आप कंपनियों के PE अनुपात तुलना करते हैं, समान तरह की कंपनियों की तुलना करें। आप रिफाइनरी स्टॉक के PE के साथ एक आईटी  कंपनी के PE की तुलना नहीं कर सकते। इसी तरह, आप भारतीय बाजार (जो एक उभरता बाजार हैं) के PE की तुलना अमेरिकी बाजार (जो एक विकसित बाजार है) के PE के साथ नहीं कर सकते हैं।

जब कंपनियों की बात करते हैं, आमतौर पर कंपनी के PE की तुलना उस क्षेत्र की कंपनियों के औसत पीई (average PE) के साथ करते हैं । आप एक ही क्षेत्र की दो कंपनियों के PE अनुपात की तुलना भी कर सकते हैं।

इस प्रकार, जब मैं उच्च PEकहता हूं, तब मेरा मतलब है कि इस कंपनी का PE उसी क्षेत्र की कंपनियों के औसत PE के अनुपात की तुलना में अधिक है। इसी प्रकार, जब मैं निम्न PE” कहता हूं, तब मेरा मतलब है कि इस कंपनी का PE उसी क्षेत्र की कंपनियों के औसत PE अनुपात की तुलना में कम है।

उच्च PE अनुपात

उच्च PE अनुपात का मतलब है कि कम्पनी का मूल्यांकन अधिक है। इसका मतलब है कि स्टॉक की कीमत कृत्रिम रूप से अधिक है, और वहाँ से स्टॉक की कीमत नीचे आने की संभावना अधिक है। इस तरह के शेयर बेचना बुद्धिमानी है।

लेकिन वहाँ भी एक और संभावना है - इस का मतलब यह भी हो सकता है कि बाजार कंपनी के तेज दर से बढ़ने की उम्मीद करता है। यह तब भी सच होता है जब एक पूरे क्षेत्र का PE अनुपात बहुत उच्च होता है। (उदाहरण के लिए, वर्ष 1999-2000 में, IT क्षेत्र में कंपनियों का PE अनुपात 100 से ज्यादा था!)

यह एक आम स्थिति है – विशेष रूप से भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्था में। तो आइये हम इसकी अधिक विस्तार से जांच करते है।

जैसा कि हम जानते हैं,

PE अनुपात = बाजार में स्टॉक का मूल्य / इसकी प्रति शेयर कमाई

ज़्यादातर, PE अनुपात पाने के लिए मौजूदा EPS को लेते हैं। क्या हमें उन कंपनियों का भी मौजूदा EPS लेना चाहिए जिनके बहुत तेजी से बढ़ने की उम्मीद है?

जब हम कहते हैं कि एक कंपनी तेजी से बढ़ती है, तो इसका मतलब है कि उस कंपनी की टाप लाइन (बिक्री / top line / revenue) और साथ ही साथ बाटम लाइन (मुनाफा / profit / bottom line) तेजी से बढ़ती है।जिसका मतलब है कि इसका EPS भी तेजी से बढेगा।

चलो यह बेहतर समझने के लिए एक उदाहरण के माध्यम से विचार करते हैं।

उदाहरण

कंपनी ABC है, जिसका:

बाजार मूल्य= 800 रु.
EPS = 20 रु.

इस प्रकार, कंपनी ABC का PE = 800 /20 = 40

जिस क्षेत्र में कंपनी ABC संचालित होती है, उसका औसत PE अनुपात सिर्फ 15 है। इस प्रकार निश्चित ही कंपनी ABC का PE काफी अधिक है।

अब, यदि कंपनी ABC की विकास दर 50% है, तो अगले वर्ष में इसका EPS 30 रुपए होना चाहिए उसके बाद के वर्ष में EPS 45 रुपये होगा, और इसी तरह यह बढ़ता रहेगा

यदि हम भविष्य के EPS का उपयोग करके कंपनी ABC का PE अनुपात पता करें, तो:

अगले वर्ष के लिए: PE= 800 /30 = 26.67
बाद के वर्ष के लिए: PE=  800 /45 = 17.78 होगा

तो, जब बाजार एक कंपनी के तेज दर से विकसित होने की उम्मीद करता है, तब वह चाहता है कि उस का PE अनुपात अधिक रहे (या स्टॉक का बाजार मूल्य अधिक रहे), क्योंकि आय वृद्धि (और इसलिये प्रति शेयर कमाई या EPS में वृद्धि) कुछ वर्षों में कंपनी के PE को क्षेत्र के औसत स्तर पर ले आएगी

यह सटीक मूल्यांकन मॉडल का उपयोग करने वाली एक सटीक गणना नहीं है, पर यकीन है कि आपको एक सामान्य अंदाजा मिल गया होगा

निष्कर्ष में, उच्च PE का मतलब है:

- कंपनी के शेयर महंगे हैं, या
-
लोग मानते है की यह कंपनी अपनी साथी कंपनियों से अधिक तेजी से बढ़ेगी।

निम्न PE अनुपात

एक निम्न PE अनुपात का मतलब है कि कम्पनी का मूल्यांकन आकर्षक हैइसका मतलब है कि शेयर की कीमत कृत्रिम रूप से कम है, और शेयर की कीमत ऊपर होने की संभावना अधिक है। इस तरह के शेयर खरीदना बुद्धिमानी है

लेकिन उच्च PE की ही तरह यहाँ भी एक और संभावना है – इसका यह मतलब भी हो सकता है कि बाजार कंपनी के धीमी विकास दर की उम्मीद करता है, या विकास बिल्कुल नहीं हो यह उम्मीद करता है। जब एक पूरे क्षेत्र का PE अनुपात बहुत कम है, तो इसका मतलब हो सकता है कि उस क्षेत्र में सामान्यत: अन्य क्षेत्रों की तरह विकास नहीं होगा(उदाहरण के लिए, सूचना प्रौद्योगिकी - IT क्षेत्र - का मौजूदा PE अनुपात अन्य क्षेत्रों के PE अनुपात से कम है, क्योंकि आईटी कंपनियों में विकास की संभावना अन्य क्षेत्रों की कंपनियों की तरह नहीं है)

निम्न PE के लिए मैं उदाहरण को नहीं दोहराऊँगा, लेकिन उच्च और निम्न PE के लिए सिद्धांत एक ही रहता है।

जब बाजार एक कंपनी से अपने साथी कंपनियों की तुलना में धीमी विकास दर की उम्मीद करता है या एक नकारात्मक वृद्धि देखता है, यह उस कम्पनी को कम PE अनुपात देगा (या स्टॉक के लिए कम बाजार मूल्य देगा), क्योंकि एक धीमी / नकारात्मक आय वृद्धि (और बदले में प्रति शेयर कमाई या EPS में धीमी/ नकारात्मक वृद्धि) अंत में कंपनी के PE को क्षेत्र के औसत स्तर पर लाएगी

निष्कर्ष में, निम्न PE का मतलब है:

- कंपनी के शेयर सस्ते हैं, या
-
लोग कंपनी के अपने साथी कंपनियों से धीमी गति या नकारात्मक वृद्धि से बढ़ने की उम्मीद करते हैं।

नियम ३: PE हानी करने वाली कंपनियों (loss making companies) के लिए उपयोगी नहीं है

PE अनुपात उन कंपनियों के मामले में पूरी तरह अप्रासंगिक हो सकता है जो सिर्फ शुरू हुई हैं, और जो कोई लाभ नहीं कमा रही हैं। अन्य हानि वाली कंपनियों के मामले में भी यही सही है।

चूँकि ऐसे में नकारात्मक (negative) या शून्य EPS होता है, PE अनुपात भी नकारात्मक होता है – जोकि अनर्थक है।

सामान्य नियम

आम तौर पर परिपक्व उद्योग (mature industries) की कंपनियों की वृद्धि दर स्थिर और सामान्य होती है। ऐसी कंपनियों का आमतौर पर मध्यम या निम्न PE अनुपात होता है।

उच्च वृद्धि वाले उद्योग की कंपनियों में तेजी से वृद्धि दिखाई देती है। ऐसी कंपनियों का आम तौर पर उच्च या मॉडरेट PE अनुपात होता है।

अब आप जानते हैं कि कैसे पीई अनुपात की व्याख्या करते हैं। आगे बढिए और खोजिये कि क्यों कुछ कम्पनियाँ दूसरों की तुलना में उच्च PE में कारोबार कर रही हैं!