हम जानते हैं कि शेयर (या इक्विटी) में निवेश लंबी अवधि में बेहतरीन रिटर्न देता है। हम यह भी जानते हैं कि हम में से ज्यादातर लोगों के लिए म्युचुअल फंड (एमएफ) (Mutual Fund – MF) के ज़रिये शेयर बाजार में निवेश शेयरों में सीधे निवेश करने से बेहतर है।

(इसके विस्तृत विश्लेषण के लिए कृपया पढ़ें शेयर निवेश – प्रत्यक्ष (सीधा) निवेश बनाम म्यूच्युअल फंडस् (Mutual Funds – MFs))

लेकिन हमारे पास आम तौर पर निवेश के लिए सीमित मात्रा में धन रहता है, और हमें हमेशा यह दुविधा रहती है कि अधिकतम दीर्घकालिक लाभ के लिए शेयरों में निवेश करना चाहिए, या अपने कर-बोझ को कम करने के लिए कर बचत वाले (मगर कम रिटर्न देने वाले) निवेश में धन लगाना चाहिए?

यह एक कठिन निर्णय है, और अधिकांश बार कर-बचत वाले निवेश की जीत होती है। अंत में हम केवल 7-8% रिटर्न देने वाली योजना में निवेश करते हैं, और स्टॉक द्वारा दिए जाने वाले बेहतर रिटर्न को छोड़ देते हैं - और यह होता है आयकर बचने के चक्कर में।

लेकिन क्या हम इन दोनों योजनाओं के श्रेष्ठ पहलुओं को जोड़ सकते हैं? अगर इक्विटी में निवेश और कर बचत दोनों एक साथ हो जाए, तो फिर क्या बात है! मगर क्या यह संभव है?

जी हाँ, बिलकुल। यह इक्विटी लिंक्ड बचत योजना (.एल.एस.एस.) के उपयोग से किया जा सकता है।

इक्विटी लिंक्ड बचत योजना (ईएलएसएस) (Equity Linked Savings Scheme – ELSS ) के लाभ और विशेषताएँ

इक्विटी लिंक्ड बचत योजना (ईएलएसएस) में किया गया निवेश आयकर अधिनियम (आईटी) की धारा 80C (Section 80C of the Income Tax – IT – Act) के अंतर्गत लाभ के लिए पात्र है। छूट की अधिकतम सीमा धारा 80C के तहत 1 लाख रुपये प्रति वर्ष है।

ईएलएसएस म्युचुअल फंड का एक विशेष वर्ग या प्रकार है, जो मुख्य रूप से शेयरों में निवेश करता है। यह काफी तरह से विविध इक्विटी फंड (diversified equity fun) जैसे हैं। विविध इक्विटी फंड और ईएलएसएस म्युचुअल फंड के बीच फर्क सिर्फ इतना है, कि ईएलएसएस में 3 वर्ष की लॉक-इन अवधि होती हैं। इसका मतलब है कि एक बार आप ईएलएसएस एमएफ में निवेश करते हैं तो, आप 3 साल की अवधि के लिए अपने निवेश को वापस नहीं ले सकते।

एक म्युचुअल फंड (एमएफ) के लिए 3 वर्ष लॉक-इन की अवधि? सुनके अजीब लग सकता है, लेकिन अगर हम दूसरे कर बचत निवेश के रास्तों के साथ तुलना करें, तो हम देखेंगे की न्यूनतम लॉक-इन बैंक सावधि जमा (एफडी) (bank fixed deposit – FD) में है (5 वर्ष), और यह यह सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) (Public Provident Fund – PPF) में 15 साल तक जा सकता है!

तो निष्कर्ष यह है की ईएलएसएस में लॉक-इन की अवधि बाकी सभी कर बचत निवेश के मार्गों से कम है।

लॉक-इन का फायदा

यह लॉक-इन आपकी मदद ही करता है। आमतौर पर कोष प्रबंधकों (fund managers) को म्युचुअल फंड के कोष का एक हिस्सा (लगभग 7-10% के आसपास) नकदी के रूप में रखना पड़ता है, ताकि वे वापसी / रिडेम्पशन (redemption) की मांग को पूरा कर सकें। यह नकद बहुत ही कम अवधि के निवेश में निवेशित होती है, और बहुत ही अल्प आय पैदा करती है। यह म्युचुअल फंड के कुल लाभ (total return) पर प्रभाव डालती है।

ईएलएसएस का कोष प्रबंधक जानता है कि आपको अपने पैसे 3 साल के लिए वापस नहीं लेने हैं। इस वजह से वह आपके पूरे पैसों का निवेश कर सकता है, और इस प्रकार, आपके निवेश का कोई हिस्सा नकदी के रूप में निष्क्रिय नहीं होता। इस वजह से आपको ईएलएसएस में अन्य म्यूचुअल फंड्स के मुकाबले बेहतर लाभ मिल सकता है।

ईएलएसएस और अन्य म्यूचुअल फंड्स की तुलना

चलिये हम विविध इक्विटी म्युचुअल फंड और इक्विटी लिंक्ड बचत योजना (ईएलएसएस) म्यूच्युअल फंड द्वारा उत्पन्न वास्तविक रिटर्न देखते हैं:

 

म्युचुअल फंड का प्रकार

3 वर्ष

5 वर्ष

विविध इक्विटी म्युचुअल फंड (Diversified Equity Mutual Fund)

48.66%

53.02%

ईएलएसएस म्युचुअल फंड (Equity Linked Savings Scheme Mutual Fund – ELSS MF)

47.56%

52.17%

 

इस तालिका में ईएलएसएस के द्वारा दिया गया हम रिटर्न आरंभिक कर बचत का विचार किये बिना दिया गया है। अगर हम मानें की आप 30% कर समूह में आते हैं, तब आपके लिए निम्न लिखित लाभ हो जाएगा:

 

म्युचुअल फंड का प्रकार

3 वर्ष

5 वर्ष

विविध इक्विटी म्युचुअल फंड

48.66%

53.02%

ईएलएसएस म्युचुअल फंड

66.20%

63.40%

 

तो बताइए, अब तुलना कैसी है? काफी बेहतर, है ना?

तो देर किस बात की है? आगे बढ़िये और इक्विटी लिंक्ड बचत योजना (ईएलएसए) म्यूचुअल फंड (एमएफ) में निवेश कीजिये!

क्योंकि इक्विटी लिंक्ड बचत योजना (ईएलएसएस) (Equity Linked Savings Scheme Mutual Fund – ELSS MF) का मतलब है उत्तम निवेश, और कर बचत का फायदा।